29 C
Mumbai
Friday, June 21, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

फिर भूकंप के झटके से हिली दिल्ली, क्या बड़े खतरे का संकेत है 3.6 तीव्रता का यह छोटा भूकंप?

दिल्ली-एनसीआर में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 3.6 मापी गई है। नेशनल सेंटर फॉर सिसमोलॉजी ने इसकी जानकारी दी है। हालांकि दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले लोगों को इसका जरा भी अहसास नहीं हुआ कि उनके यहां भूकंप भी आया था। ऑफिस में बैठे लोगों को भी खबरों के माध्यम से भूकंप आने की जानकारी मिली। लोगों ने कहा कि उन्हें तो पता ही नहीं चला कि भूकंप कब आकर कब चला गया।

पश्चिमी यूपी और हरियाणा में भी महसूस हुए झटके
दिल्ली-एनसीआर के अलावा आज पश्चिमी यूपी और हरियाणा में भी भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार, यह झटके दोपहर 1:49 बजे महसूस किए गए। हालांकि इन भूकंप के हल्के झटकों से किसी भी तरह की हानि की खबर नहीं है। आपको बता दें कि अभी पिछले महीने भी दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। उस समय दोपहर का ही वक्त था। लोगों की कुर्सियों से लेकर पंखे और खिड़कियां भी हिलने लगे थे। उस वक्त कुछ सेकेंड के लिए ही सही लेकिन लोगों की जान पर बन आई थी।

लोगों ने कहा- हमें तो पता ही नहीं चला
दिल्ली-एनसीआर में आज भूकंप के झटके हल्के ही थे। किसी तरह की हानि की भी खबर नहीं है। यही कारण था कि लोगों को इस भूकंप का पता भी नहीं चला। ऑफिस में अपने काम में व्यस्त लोगों से पूछने पर पता चला कि उन्हें तो कतई नहीं पता लगा कि भूकंप कब आया। उन्हें तो सामने चल रही टीवी में देखने पर पता चला कि भूंकप भी आया था।

भूकंप ऐसी प्राकृतिक आपदा है जिसका अंदाजा लगा पाने में हम सक्षम नहीं हैं। कब, कहां धरती अचानक डोलने लगेगी, यह बता पाना वैज्ञानिकों के लिए बड़ा मुश्किल है। आपदा वैसे तो संभलने का मौका नहीं देती लेकिन थोड़ा चौकन्ना रहकर आप जिंदगी बचाने की कोशिश जरूर कर सकते हैं। जानिए भूकंप जैसी स्थिति से निपटने के लिए आप कैसे तैयार रह सकते हैं-
– भूकंप के झटके जैसे ही महसूस हों तुरंत बिना देर किए घर, ऑफिस से निकल खुली जगह पर निकल जाएं। बड़ी बिल्डिंग्स, पेड़ों, बिजली के खंभों आदि से दूर रहें।
– बाहर जाने के लिए लिफ्ट का इस्तेमाल कतई न करें। सीढ़ियों से ही नीचे पहुंचने की कोशिश करें।
– अगर आप किसी ऐसी जगह हैं जहां बाहर जाने का कोई फायदा नहीं है तो सही यह होगा कि अपने आस-पास ही ऐसी जगह खोजें जिसके नीचे छिप कर खुद को बचाया जा सके। ध्यान रखें भूकंप के समय भागे नहीं इससे नुकसान की संभावना ज्यादा होगी।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here