30 C
Mumbai
Monday, May 23, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

"मानवाधिकर आभिव्यक्ति, आपकी आभिव्यक्ति" 100% निडर, निष्पक्ष, निर्भीक !

मुस्लिम लिटरेचर हटाया गया CBSE के पाठ्यक्रम से

सीबीएसई ने गुटनिरपेक्ष आंदोलन, शीत युद्ध के दौर, अफ्रीकी-एशियाई क्षेत्रों में इस्लामी साम्राज्यों के उदय, मुगल दरबारों के इतिहास और ओद्योगिक क्रांति की सामग्रियों को कक्षा 11वीं और 12वीं के राजनीतिक विज्ञान के पाठ्यक्रम से हटा दिया है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

इसी तरह, कक्षा 10 के पाठ्यक्रम में, ‘खाद्य सुरक्षा’ पर एक अध्याय में से “कृषि पर वैश्वीकरण का प्रभाव” विषय को हटा दिया गया है। ‘धर्म, सांप्रदायिकता और राजनीति’ में फैज अहमद फैज द्वारा उर्दू में दो कविताओं के अनुवादित अंश – साम्प्रदायिकता, धर्मनिरपेक्ष राज्य’ वर्ग को भी इस वर्ष बाहर रखा गया है। यही नहीं, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने ‘लोकतंत्र और विविधता’ पर पाठ्यक्रम में शामिल अध्यायों को भी हटा दिया है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

विषयों या अध्यायों के चयन के पीछे तर्क के बारे में पूछे जाने पर, अधिकारियों ने कहा कि परिवर्तन पाठ्यक्रम के युक्तिकरण का हिस्सा हैं और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) की सिफारिशों के अनुरूप हैं।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब सीएबीएसी ने ऐसा किया हो। पाठ्यक्रम को युक्तिसंगत बनाने के अपने निर्णय के हिस्से के रूप में, सीबीएसई ने 2020 में घोषणा की थी कि कक्षा 11 के राजनीति विज्ञान की पाठ्यपुस्तक में संघवाद, नागरिकता, राष्ट्रवाद और धर्मनिरपेक्षता के अध्यायों पर छात्रों का आकलन करते समय इस विषय पर विचार नहीं किया जाएगा। सीबीएसई के इस फैसले के बाद उस वक्त एक बड़ा विवाद पैदा हो गया था।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here