33 C
Mumbai
Tuesday, May 21, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

राहुल गांधी : किसानों के दर्द को देख रहा है पूरा देश, पर मोदी सरकार को नहीं आता नज़र

वायनाड: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी एक बार फिर केंद्र सरकार पर कृषि क़ानूनों को लेकर निशाना साधा। केरल के वायनाड में किसानों की एक सभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि भारत के किसान जिस मुश्किल का सामना कर रहे हैं, उसे पूरा देश देख रहा है। सरकार किसानों के दर्द को नहीं समझ रही। कृषि कानून खेती की व्यवस्था को बर्बाद करने और इस व्यवसाय को मोदी जी के 2-3 दोस्तों को देने के लिए बनाए गए हैं।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

“भारत माता” से संबंधित है कृषि व्यवसाय
राहुल गांधी ने कहा कि कृषि एकमात्र व्यवसाय है जो “भारत माता” से संबंधित है। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि सरकार इन तीन कानूनों को तब तक वापस नहीं लेगी जब तक उसे मजबूर नहीं किया जाता। राहुल गांधा ने कहा, “संसद में जो मैंने भाषण दिया था, उसमें मैंने हिंदी में कहा था, ‘हम दो हमारे दो’। इस सरकार में दो लोगों ने सरकार से बाहर के दो लोगों के साथ साझेदारी की हुई है।”

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

क़ानून वापसी के लिए सरकार को मजबूर करना पड़ेगा
उन्होंने कहा कि ये लोग इन तीन कानूनों को तब तक वापस नहीं लेंगे जब तक इन्हें मजबूर नहीं किया जाता।. उन्होंने कहा, “कारण ये है कि ये तीनों कृषि कानून भारत की कृषि व्यवस्था को बर्बाद करने के लिए और पूरा व्यवसाय नरेंद्र मोदी के दो-तीन दोस्तों को सौंपने के लिए तैयार किए गए हैं।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

तीन महोनों से जारी है किसानों का आंदोलन
बता दें कि करीब 90 दिनों से दिल्ली के कई बॉर्डरों पर हज़ारों किसान केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार से कई दौर की बातचीत के बाद भी सरकार और किसान संगठनों के बीच कानूनों को लेकर गतिरोध बरकरार है। किसानों की मांग है कि सरकार एमएसपी की गारंटी को लेकर कानून बनाए और तीनों नए कृषि कानूनों को वापस ले लेकिन केंद्र कानून वापस लेने को तैयार नहीं है.

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here