35 C
Mumbai
Saturday, October 16, 2021

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

संयुक्त किसान मोर्चा की प्रेस कॉन्फ्रेंस में महाराष्ट्र की 21 वर्षीय बलिदानी की सरहना और अन्य लापता 100 से ज्यादा लोगों पर चिंता जताई

संयुक्त किसान मोर्चा ने पत्रकारों की गिरफ़्तारी की भी निंदा

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

उत्तर प्रदेश: रविवार को संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दावा किया है कि ट्रैक्टर परेड के बाद से 100 से ज्यादा लोगों के लापता होने की खबर है। संयुक्त किसान मोर्चा से इस पर चिंता जताई है। मोर्चा (एसकेएम) ने दावा किया कि शाहजहांपुर में आंदोलन में हिस्सा लेने वाले महाराष्ट्र के एक प्रदर्शनकारी की रविवार को मौत हो गई। शायरा पवार सिर्फ 21 साल की थीं और उनके बलिदान को याद किया जाएगा।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ क्लिक करें

जानकारी जुटाने की कोशिश
मोर्चा ने कहा कि लापता लोगों के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश की जा रही है। जानकारी जुटाए जाने के बाद अधिकारियों के साथ औपचारिक कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए एक कमेटी का गठन किया गया है जिसमें प्रेम सिंह भंगू, राजिंदर सिंह दीप सिंह वाला, अवतार सिंह, किरणजीत सिंह सेखों और बलजीत सिंह शामिल हैं। लापता लोगों के बारे में जानकारी जुटाने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने एक नंबर भी जारी किया है, जिसमें उस लापता व्यक्ति का पूरा नाम, पता, फोन नंबर और घर का कोई दूसरा संपर्क नंबर दिया गया है। साथ ही यह डिटेल भी दी गई है कि व्यक्ति कब से गायब है।

“MA news” app डाऊनलोड करें और 4 IN 1 का मजा उठायें  + Facebook + Twitter + YouTube.

Download now

पत्रकारों की गिरफ़्तारी की निंदा
मोर्चा की तरफ से मनदीप पुनिया और अन्य पत्रकारों की गिरफ्तारी की निंदा की गई है। उन्होंने अलग-अलग विरोध वाली जगहों पर इंटरनेट सेवाएं बंद किए जाने और किसानों पर हमले की भी निंदा की। मोर्चा ने कहा है कि सरकार नहीं चाहती कि सही बात किसानों और आम जनता तक पहुंचे और किसानों का शांतिपूर्ण आचरण की बात दुनिया तक पहुंचे. सरकार किसानों के बारे में अपना झूठ फैलाना चाहती है।

मीडियाकर्मियों को रोकने पर सवाल
किसान मोर्चा के नेताओं ने सिंघु बॉर्डर और दूसके धरना स्थलों तक पहुंचने से आम लोगों और मीडियाकर्मियों को रोकने के लिए काफी दूर पहले से बैरिकेडिंग पर भी सवाल उठाया और आरोप लगाया कि पुलिस और सरकार द्वारा हिंसा की कई कोशिशों के बाद भी किसान अभी तक तीन कृषि कानूनों और एमएसपी पर बहस कर रहे हैं।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here