29 C
Mumbai
Sunday, June 26, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

"मानवाधिकर आभिव्यक्ति, आपकी आभिव्यक्ति" 100% निडर, निष्पक्ष, निर्भीक !

अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार गीतांजलि श्री भारतीय नॉवेलिस्ट ने जीता 

गीतांजलि श्री (एक हिंदी उपन्यासकार) ने बुकर पुरस्कार जीतकर नामांकित होने वाली पहली भारतीय होने के नाते इतिहास बनाया है और अकेले साहित्यिक क्षेत्र में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार पुरस्कारों में से एक जीता है। वह यूपी के मेनपुरी से है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

गीतांजलि श्री (जो तीन उपन्यासों और कई कहानी संग्रह के लेखक हैं) अपने उपन्यास, ‘टॉम्ब ऑफ सैंड’ या मूल रूप से ‘रिटम समाधि’ के साथ अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहलीहिंदी उपन्यासकार हैं। इस उपलब्धि के साथ, ‘टॉम्ब ऑफ सैंड’ किसी भी भारतीय भाषा में प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार जीतने वाली पहली पुस्तक बन गई है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

64 वर्षीय गीतांजलि श्री के काम का अंग्रेजी, फ्रेंच, जर्मन, सर्बियाई और कोरियाई सहित कई भाषाओं में अनुवाद किया गया है और कई पुरस्कारों और फेलोशिप के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया है। ‘टॉम्ब ऑफ सैंड’ ब्रिटेन में प्रकाशित होने वाली उनकी पहली पुस्तकों में से एक है।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

बुकर के लिए हिंदी में कथा का पहला काम करने पर विचार करते हुए, 64 वर्षीय लेखक ने कहा कि ऐसा होना अच्छा लगता है।

उन्होंने कहा, ““लेकिन मेरे पीछे और यह पुस्तक हिंदी में और अन्य दक्षिण एशियाई भाषाओं में एक समृद्ध साहित्यिक परंपरा है। विश्व साहित्य इन भाषाओं में कुछ बेहतरीन लेखकों को जानने के लिए अमीर होगा। इस तरह की बातचीत से जीवन की शब्दावली बढ़ेगी।”

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here