30 C
Mumbai
Sunday, April 21, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- ‘कनाडा में शुरू करेंगे वीजा सेवा, लेकिन…’, इस्राइल-हमास युद्ध पर कही यह बात

विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा, भारत के पास यह दिखाने के लिए बहुत सारे सबूत हैं कि देश आज एक, दो या पांच दशक पहले की तुलना में कहीं बेहतर स्थिति में है। उन्होंने कहा कि समाधानों का प्रत्येक सेट समस्याओं की एक नई पीढ़ी को जन्म देता है। विदेश मंत्री के अनुसार, “हम लगातार विश्लेषण करते हैं, बहस करते हैं और कभी-कभी परेशान भी होते हैं।” 

नौकरशाही और राजनीति के बारे में जयशंकर ने कहा, उनके व्यवसाय में वास्तव में अच्छे लोग भी कल्पना करते हैं, अनुमान लगाते हैं और भविष्यवाणी करते हैं… हमें विकासवादी दृष्टिकोण के साथ ही दुस्साहसी सोच की भी जरूरत है। दोनों की आवश्यकता का कारण दुनिया के बदलते परिदृश्य हैं, जहां अनेक मोर्चों पर मंथन हो रहे हैं।

कनाडा और भारत के रिश्तों की तल्खी
विदेश मंत्री जयशंकर ने दुनिया भर में हो रही भू-राजनीतिक उथल-पुथल पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मध्य पूर्व में अभी जो हो रहा है उसका प्रभाव अभी भी पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। उन्होंने भारत और कनाडा के रिश्तों की तल्खी पर भी टिप्पणी की। कनाडा की वीजा सेवाओं पर, विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा, “अभी संबंध एक कठिन दौर से गुजर रहे हैं, लेकिन मैं यह कहना चाहता हूं कि हमारी जो समस्याएं हैं, वे कनाडाई राजनीति के एक निश्चित खंड और उससे उत्पन्न होने वाली नीतियों के साथ हैं। अभी लोगों की सबसे बड़ी चिंता वीजा को लेकर है। कुछ हफ्ते पहले, हमने कनाडा में वीजा जारी करना बंद कर दिया था क्योंकि हमारे राजनयिकों के लिए वीजा जारी करने के लिए काम पर जाना अब सुरक्षित नहीं था।”

उन्होंने कहा, राजनयिकों की सुरक्षा हमारे लिए प्राथमिकता थी। वीजा के मुद्दे को अस्थायी रूप से इसलिए रोका गया। विदेश मंत्री के अनुसार भारत इस पर बहुत बारीकी से नज़र रख रहा है। उन्हें आशा और अपेक्षा है कि स्थिति बेहतर होगी। राजनयिकों के रूप में भारतीय अपने मूल कर्तव्य को पूरा करने में सक्षम होंगे। विश्वास बहाल होगा। उन्होंने कहा कि सुरक्षा सुनिश्चित करना और राजनयिकों की सुरक्षा वियना कन्वेंशन का सबसे बुनियादी पहलू है। 

कनाडा की वीजा सेवा जल्द बहाल होने की उम्मीदें
विदेश मंत्री के अनुसार, फिलहाल कनाडा में कई तरीकों से राजनयिकों की सुरक्षा को चुनौती दी गई है। हमारे लोग सुरक्षित नहीं हैं, हमारे राजनयिक सुरक्षित नहीं हैं। इसलिए अगर हम वहां प्रगति देखते हैं, तो वे चाहेंगे कि वीजा की सेवाएं फिर से शुरू करना बहुत पसंद है। मेरी आशा है कि यह कुछ ऐसा होगा जो बहुत जल्द होना चाहिए। उन्होंने भारत में कनाडा के राजनयिकों की मौजूदगी पर एक सवाल के जवाब में कहा कि एक देश में कितने राजनयिक हैं, दूसरे देश में कितने राजनयिक हैं, ऐसी तुलना का पूरा मुद्दा समता का है।

विदेश मंत्री ने कहा, वियना कन्वेंशन में समता को लेकर बहुत अधिक प्रावधान किए गए हैं। इस पर प्रासंगिक अंतरराष्ट्रीय नियम हैं। लेकिन हमारे मामले में, हमने समानता का आह्वान किया क्योंकि हमें कनाडाई कर्मियों द्वारा हमारे मामलों में निरंतर हस्तक्षेप के बारे में चिंता थी। हमने उसमें से बहुत कुछ सार्वजनिक नहीं किया है। मेरा मानना है कि समय के साथ और भी चीजें सामने आएंगी और लोग समझेंगे। हमें कई राजनयिकों के साथ उस तरह की असुविधा क्यों हुई, जैसी हमने कार्रवाई की, लोगों को आने वाले दिनों में इसका जवाब मिलेगा।

यूक्रेन और रूस के युद्ध पर भी बोले
दिल्ली में आयोजित कौटिल्य इकोनॉमिक कॉन्क्लेव में विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा, “अस्थिरता में दूसरा योगदान वैश्वीकृत दुनिया में हो रहे संघर्ष का है। यहां परिणाम नजदीकी भूगोल से कहीं अधिक दूरी तक फैलते हैं। यूक्रेन के संबंध में हम पहले ही इसका अनुभव कर चुके हैं। युद्ध का प्रभाव अभी मध्य पूर्व में क्या हो रहा है? यह अभी भी पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। दुनिया के अलग-अलग क्षेत्रों में, छोटी-छोटी घटनाएं हो रही हैं, उनका भी प्रभाव पड़ता है।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here