30 C
Mumbai
Friday, May 20, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

"मानवाधिकर आभिव्यक्ति, आपकी आभिव्यक्ति" 100% निडर, निष्पक्ष, निर्भीक !

अब ताजमहल की आई बारी: क्या है बंद दरवाज़ों के पीछे? याचिका दायर

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में एक याचिका दायर कर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को ताजमहल के 22 बंद दरवाजों की जांच करने का निर्देश देने की मांग की गई है वहां ताकि हिंदू देवताओं की मूर्तियों की उपस्थिति का पता लगाया जा सके।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

याचिका में ASI द्वारा एक तथ्य-खोज समिति के गठन और एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने की मांग की गई थी। याचिका में कहा गया है कि हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों को इन दरवाजों के पीछे बंद कर दिया गया है। याचिका में कुछ इतिहासकारों और कुछ हिंदू समूहों द्वारा ताजमहल के पुराने शिव मंदिर होने के दावों का भी हवाला दिया गया है।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

याचिका में कहा गया है, “कुछ हिंदू समूह और प्रतिष्ठित संत का विभिन्न ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर दावा है कि ये स्मारक एक शिव मंदिर की जगह निर्मित हैं, हालांकि कई इतिहासकार इसे मुगल सम्राट शाहजहां द्वारा निर्मित ताजमहल के रूप में मानते हैं। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि यह तेजो महल है जो कि ज्योतिर्लिंग यानी उत्कृष्ट शिव मंदिरों की जगह है।”

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

याचिका में लिखा गया है, “यह सम्मानपूर्वक प्रस्तुत किया जाता है कि चार मंजिला इमारत के ऊपरी और निचले हिस्से में स्थित लगभग कमरे स्थायी रूप से बंद हैं और पीएन ओक और करोड़ों हिंदू उपासकों जैसे कई इतिहासकार दृढ़ता से मानते हैं कि उन लॉक रूम में मंदिर भगवान शिव मौजूद हैं।”

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here