27 C
Mumbai
Saturday, October 16, 2021

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

कोरोना संक्रमण गर्भवती महिलाओं के लिए है खतरनाक, बढ़ जाता है खतरा: अध्ययन

अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आणविक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है।

एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं। टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

रोमेरो ने कहा कि ऐसेम्प्टोमैटिक और रोगसूचक दोनों तरह के संक्रमण ने प्री-एक्लेमप्सिया के खतरे को काफी बढ़ा दिया है। “फिर भी, प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने की संभावना रोगसूचक बीमारी वाले रोगियों में स्पशरेन्मुख बीमारी वाले लोगों की तुलना में अधिक है।”

उच्च रक्तचाप के अलावा प्री-एक्लेमप्सिया चेतावनी के संकेतों में सिरदर्द, चेहरे और हाथों में सूजन, धुंधली दृष्टि, सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ शामिल हैं। प्री-एक्लेमप्सिया फाउंडेशन के अनुमानों के अनुसार, यह स्थिति हर साल 76, 000 मातृ मृत्यु और 500,000 से अधिक शिशु मृत्यु के लिए जिम्मेदार है।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

शोधकतार्ओं ने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों को एसोसिएशन के बारे में पता होना चाहिए और प्री-एक्लेमप्सिया का जल्द पता लगाने के लिए संक्रमित गर्भवती महिलाओं की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए। अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी-मातृ-भ्रूण चिकित्सा में प्रकाशित एक अलग अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान एमआरएनए कोविड -19 वैक्सीन प्राप्त करने वाली महिलाएं अपने बच्चों को उच्च स्तर के एंटीबॉडी पास करती हैं।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here