29 C
Mumbai
Friday, March 1, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

नहीं थम रहा विवाद PM मोदी पर बनी डॉक्यूमेंट्री पर, कांग्रेस ने अब केरल में की स्क्रीनिंग

केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी (केपीसीसी) ने गुरुवार को यहां के संघुमुघम समुद्र तट पर बीबीसी विवादित डॉक्यूमेंट्री ‘इंडिया: द मोदी क्वेश्चन’ दिखाई। इस मौके पर केपीसीसी के महासचिव जीएस बाबू ने कहा कि 2002 के गुजरात दंगों पर बनाई गई डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पहली बार केपीसीसी मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए की गई थी। 

आज की गई डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग को लेकर उन्होंने कहा कि जनता से इस बारे में सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। बहुत सारे लोग इसे देखने आए थे। आज मिली सकारात्मक प्रतिक्रिया को देखते हुए हम इसे पूरे राज्य में विभिन्न स्थानों पर दिखाएंगे। केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग के दौरान उसके दोनों भागों को दिखाया। उन्होंने आगे कहा कि प्रतिक्रिया से संकेत मिलता है कि लोग जानना चाहते हैं कि डॉक्यूमेंट्री में क्या है और यह किस बारे में है।

हैदराबाद विश्वविद्यालय और जेएनयू में की गई स्क्रीनिंग
इस विवादित डॉक्यूमेंट्री की स्क्रींनिंग हैदराबाद विश्वविद्यालय और दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू  विश्वविद्यालय में भी की गई थी। दोनों शिक्षण संस्थानों में छात्रों के समूहों ने इसकी व्यवस्था की थी। जेएनयू में तो इसको लेकर बवाल भी हुआ। वहां विश्वविद्यालय प्रशासन के विरोध के बावजूद इसकी स्क्रीनिंग की गई थी। 

केरल के राज्यपाल ने उठाए रिलीज के समय पर सवाल
केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने भी बीबीसी की पीएम मोदी और गुजरात दंगों पर बनाई गई डॉक्यूमेंट्री को लेकर सवाल उठाए थे। उन्होंने इसके रिलीज किए जाने के समय को लेकर खास तौर पर नाराजगी जताई। उन्होंने पूछा है कि ‘इडिया: द मोदी क्वेश्चन’ को ऐसे समय में क्यों रिलीज किया गया, जब भारत ने जी20 की अध्यक्षता संभाली।

 डॉक्यूमेंट्री में क्या है, जिस पर विवाद हो रहा है? 
ब्रिटिश ब्रॉडकास्टर बीबीसी ने India: The Modi Question शीर्षक से दो पार्ट में एक नई सीरीज बनाई है। इसका पहला पार्ट मगंलवार को जारी किया गया है। इस सीरीज में पीएम मोदी के शुरुआती दौर के राजनीतिक सफर पर बातें की गईं हैं। वहीं, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ उनके जुड़ाव, भाजपा में बढ़ते कद और गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में उनकी नियुक्ति की चर्चा भी इसमें की गई है। मोदी के मुख्यमंत्री रहते गुजरात में हुए दंगों का भी इसमें जिक्र है। इस हिस्से में गुजरात दंगों में पीएम मोदी की कथित भूमिका की बात कही गई है। इसी को लेकर विवाद हो रहा है।  

विवाद कहां से शुरू हुआ?
17 जनवरी को इसे बीबीसी टू पर रिलीज किया गया था। सीरीज के आते ही विवाद शुरू हो गया। ब्रिटेन में सोशल मीडिया पर इसका विरोध शुरू हुआ। इसको लेकर लोगों ने आपत्ति जताई और कहा कि बीबीसी को 1943 के बंगाल अकाल पर भी सीरीज बनानी चाहिए। जिसमें 30 लाख से ज्यादा लोगों की भुखमरी और बीमारी के कारण मौत हो गई थी। एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि बीबीसी को यूकेः द चर्चिल क्वेश्चन शीर्षक से भी सीरीज बनानी चाहिए। विवाद बढ़ता देख एक दिन बाद ही बुधवार को बीबीसी ने सीरीज को यूट्यूब से हटा दिया।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here