29 C
Mumbai
Sunday, November 28, 2021

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

मोदी राज में देश की हुई दुर्दशा का सबूत भुखमरी सूचकांक में फिसलन: सचिन रावत

भारत में भुखमरी बढ़ने को लेकर कांग्रेस ने गहरी चिंता ज़ाहिर की है। गुरुवार को जारी वैश्विक भुखमरी सूचकांक 2021 की रिपोर्ट में भारत का फ़िसलकर 101वें स्थान पर पहुँचने को पार्टी ने मोदी राज में देश की हुई दुर्दशा का सबूत बताया है। रिपोर्ट के मुताबिक भूख के मामले में भारत की हालत पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी ख़राब है जिसे कांग्रेस ने शर्मनाक बताया है।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन रावत ने बताया कि सात साल से मोदी सरकार और साढ़े चार साल से योगी सरकार विकास का ढोल पीट रही है, लेकिन हक़ीक़त ये है कि बीजेपी के शासन में भारत हर स्तर पर पिछड़ा है और जनता के हर तबके का जीवन दूभर हुआ है। इसका सबसे बड़ा सबूत वैश्विक भुखमरी सूचकांक की ताजा रिपोर्ट है जिसमें भारत को 116 देशों में से 101वां स्थान दिया गया है। 2020 में भारत 107 देशों में 94वें स्थान पर था। श्री रावत ने कहा कि 2021 की रैंकिंग के अनुसार, पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल ने भी भारत से बेहतर प्रदर्शन किया है जो भारत जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था के लिए शर्म की बात है। रिपोर्ट में भारत में भूख के स्तर को ‘चिंताजनक’ बताया गया है जबकि मोदी और योगी सरकार विकास के झूठे विज्ञापनों पर सरकारी ख़ज़ाना लुटा रही हैं।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

प्रदेश प्रवक्ता सचिन रावत ने कहा कि देश भुखमरी की कगार पर है लेकिन मोदी सरकार अपने पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाने में जुटी हुई है। मोदी सरकार के कार्यकाल में बेरोजगारी चरम पर है, सरकार ने तीन कृषि कानून लागू करके किसानों के भविष्य को चौपट कर दिया है। महंगाई आसमान छू रही है। और अब भुखमरी रिपोर्ट ने पूरी दुनिया के सामने भारत को शर्मसार कर दिया है। श्री रावत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की 2014 से पहले जब सरकार थी तब भारत वैश्विक भुखमरी सूचकांक में 55 वें स्थान पर था। लेकिन मोदी के राज में साल दर साल भुखमरी में भारत की स्थिति खराब होती गयी।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

श्री रावत ने कहा कि भारत का जीएचआई स्कोर भी गिर गया है। यह साल 2000 में 38.8 था, जो 2012 और 2021 के बीच 28.8-27.5 के बीच रहा। जीएचआई स्कोर की गणना चार पैरामीटर पर की जाती है, जिनमें अल्पपोषण, कुपोषण, बच्चों की वृद्धि दर और बाल मृत्यु दर शामिल हैं। साल 2020 में भारत 107 देशों में 94वें स्थान पर था। अब 116 देशों में यह 101वें स्थान पर आ गया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए की सरकार ने देश को खाद्य सुरक्षा बिल दिया, भोजन की गारंटी दी जिससे देश में गरीबी और भुखमरी को मिटाया जा सके लेकिन मोदी सरकार ने इन सारी उपलब्धियों पर मिट्टी डाल दिया है।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Man Network

आपकी आवाज बनेगा "मानवाधिकार अभिव्यक्ति" 'लोकल न्यूज' मैन नेटवर्क !

100%  निडर, 100% निर्भीक, 100% निष्पक्ष !

आपके आस-पास कहीं कोई भ्रष्टाचार हो रहा है ? कोई गैरकानूनी कार्य हो रहा है ? शासन/प्रशासन में अनदेखी हो रही है, या कोई दबंग किसी महिला या पुरूष का कर रहा है शोषण, तो अभी फ़ोन उठायें और वीडियो बनाकर या खबर लिखकर फोटो/वीडियो अभी यहां >>अपलोड<< करेेें !

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बने, रिपोर्टर बने।

अनुमति के लिये ये >>फार्म<< भरना अनिवार्य है तथा उसके बाद इस नंबर 9619976777 पर कॉल करेेें |

Register | Login