27 C
Mumbai
Monday, July 15, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

सनातन धर्म का न आदि है और न ही अंत, इसे दुनिया की कोई भी ताकत खत्म नहीं कर सकती

सनातन धर्म पर अलग-अलग दलों के नेताओं के विवादित बयान आने के बाद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने लखनऊ में बयान दिया है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म को लेकर हो रहा विवाद दुर्भाग्यपूर्ण है। सनातन धर्म वसुधैव कुटुंबकम का संदेश देने वाला धर्म है। यह धर्म जाति, पंथ और मजहब से ऊपर उठकर संपूर्ण विश्व को अपना परिवार कहने वाला धर्म है। इसका न कोई आदि है न कोई अंत है। इस पर विवाद दुर्भाग्यपूर्ण है।

विकास कार्यों का निरीक्षण करने निकले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सनातन धर्म को लेकर दिए जा रहे विवादित बयानों पर तीखी प्रक्रिया दी। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म को लेकर विवादित बयान बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। बोले, सनातन धर्म का जहां तक प्रश्न है ये नित नूतन क्षीर पुरातन है। यह एक ऐसा धर्म है जो वसुदेव कुटुंबकम का संदेश देता है। यानि जाति, पंथ, मजहब और इन सबसे ऊपर है। पूरा विश्व ही हमारा परिवार है। यह संदेश देने वाला सनातन धर्म है।

राजनाथ सिंह ने कहा कि सनातन धर्म का न आदि है और न ही अंत। दुनिया की कोई भी ताकत इसे खत्म नहीं कर सकती। सनातन धर्म पर यदि संकट आया ताे मैं समझता हूं कि बहुत बड़ा संकट होगा मानव समाज के लिए होगा। राजनाथ सिंह ने कहा कि फरवरी-मार्च के बाद लखनऊ की धरती पर ब्रह्मेस मिसाईल बनने का काम भी शुरू हो जाएगा। डीआरडीओ का कार्य भी जल्द पूरा होगा। इससे लखनऊ वासियों को लाभ मिलेगा। राम मंदिर के सवाल पर रक्षा मंत्री ने कहा कि जल्द ही मंदिर का उद्घाटन होगा। राजनाथ सिंह शनिवार को लखनऊ में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा करने निकले थे। उन्होंने ओव ब्रिज निर्माण और गोमतीनगर रेलवे स्टेशन पर हो रहे कार्यों का जायजा लिया और अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। रक्षा मंत्री शुक्रवार को लखनऊ आए थे। रविवार शाम छह बजे वह दिल्ली वापस रवाना होंगे।

उन्होंने लखनऊ के विकास पर कहा कि फरवरी से लखनऊ में मिसाइलों का निर्माण होने लगेगा। शहीद पथ पर एलिवेटेड रोड का निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा शहर में 11 नए फ्लाईओवर बनाने और अवध चौराहे पर अंडर पास बनाने का प्रस्ताव है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह लखनऊ दौरे पर हैं।

योजनाओं का लाभ देने में नहीं देखा जाता धर्म

राजनाथ सिंह ने शनिवार शाम को एक कार्यक्रम में कहा कि जाति, पंथ, मजहब की बात की जाती है। मुझे लगता है कि इंसानियत से बड़ा धर्म और मजहब नहीं हो सकता। हमारी सरकार ने भी ऐसे ही काम किया है। लोगों का खाता खोलते समय यह नहीं देखा है कि कौन छोटा है, कौन बड़ा है, कौन किस जाति, पंथ और मजहब का है। उज्जवला योजना व प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ देने में भी ऐसा नहीं सोचा। अल्पसंख्यक समुदाय के लिए भी जो योजनाएं चलाई गई, उसमें कोई भी व्यक्ति भेदभाव का आरोप हमारी सरकार पर नहीं लगा सकता है। कोरोना काल में सभी धर्म के लोगों को टीका लगवाया गया। सरकार ने बिना भेदभाव के सबके लिए राशन निशुल्क मुहैया कराने का काम किया। कहा कि हम भारत को सशक्त भारत बनाना चाहते हैं। भेदभाव से उठकर हमको मिलकर काम करने की जरूरत है। मोदी सरकार आने के बाद भारत का कद दुनिया में तेजी से बढ़ा है। आज भारत कुछ कहता है तो पूरी दुनिया कान खोल कर सुनती है।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here