30 C
Mumbai
Friday, May 20, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

"मानवाधिकर आभिव्यक्ति, आपकी आभिव्यक्ति" 100% निडर, निष्पक्ष, निर्भीक !

लम्बे संघर्ष की तैयारी में किसान, सिंघू बॉर्डर पर शुरू किये पक्के निर्माण

नई दिल्ली: लम्बे संघर्ष की तैयारी कृषि कानून को निरस्त करने की मांग को लेकर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बैठे किसानों ने अब गर्मी से बचने के लिए पक्के मकानों का निर्माण शुरू हो कर दिया। किसान नेताओं ने घोषणा की है कि अधिक से अधिक पक्के निर्माण किए जाएंगे और राष्ट्रीय राजमार्ग पर भूखंड स्थापित किए जाएंगे। इसके लिए सेवादार ईंटे और अन्य निर्माण सामग्री भेज रहे हैं और पानीपत से दिल्ली जाने वाली लेन की तरफ निर्माण भी शुरू कर दिया गया है। किसान नेताओं ने सरकार को चेतावनी दी कि वे लंबे समय तक यहां रहने के लिए पक्के मकान बना रहे हैं।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

लम्बे आंदोलन की तैयारी
दरअसल किसानों को अब सरकार के रवैये को देखकर लगता है कि उन्हें लंबे समय तक सड़क पर बैठना पड़ सकता है। ऐसे में मौसम की परेशानी से बचने के लिए, किसानों ने कुंडली सीमा पर पक्के मकानों का निर्माण करना शुरू कर दिया है। किसानों का तर्क है कि वह गर्मी और सर्दी में तम्बू के अंदर क्यों मरे,
जब उन्हें लंबे समय तक सीमा पर बैठना है तो वे पक्के मकान बनाएंगे ताकि उन घरों में मौसम के अनुसार एसी, रूम हीटर या अन्य सुविधाएं हो सकें।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करे

ट्यूबवेल भी लगवाए
किसानों ने घर बनाने से पहले कई ट्यूबवेल लगाए हैं ताकि गर्मियों में पीने के पानी की कोई समस्या न हो। जब किसानों से कुंडली सीमा पर पक्के मकानों के निर्माण के साथ-साथ नलकूपों की स्थापना के बारे पुलिस ने किसानों पूछा कि किसकी मंजूरी से वे यह सब कर रहे हैं तो किसानों ने पुलिस से कहा कि सरकार ने किसकी मंजूरी से कृषि कानूनों को बनाया था। इसलिए पहले मोदी से पूछें कि जब किसानों से कानून बनाने के लिए नहीं पूछा गया तो किसान निर्माण करने के लिए क्यों किसी से पूछेंगे।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here