29 C
Mumbai
Monday, June 27, 2022

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

"मानवाधिकर आभिव्यक्ति, आपकी आभिव्यक्ति" 100% निडर, निष्पक्ष, निर्भीक !

हैदराबाद एनकाउंटर फ़र्ज़ी था: सिफारिश पुलिसकर्मियों पर मुकदमा चलाने की

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त पैनल ने कहा कि हैदराबाद में 2019 के सनसनीखेज सामूहिक बलात्कार और एक महिला की हत्या के आरोपियों की पुलिस मुठभेड़ फर्जी थी।

निडर, निष्पक्ष, निर्भीक चुनिंदा खबरों को पढने के लिए यहाँ >> क्लिक <<करें

शीर्ष अदालत के एक पूर्व न्यायाधीश के नेतृत्व वाले पैनल ने कहा कि मुठभेड़ में मारे गए चारों बलात्कारी और हत्या के आरोपियों में से तीन नाबालिग थे। पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को अपनी रिपोर्ट में हत्या के आरोपी पुलिसकर्मियों पर मुकदमा चलाने की सिफारिश की है।

नवंबर 2019 में हैदराबाद के पास शमशाबाद में एक 26 वर्षीय पशु चिकित्सक के चार लोगों ने बलात्कार किया और उसकी हत्या कर दी और फिर उसके शरीर को एक ट्रक में लाद दिया और उस रात बाद में एक पुल के नीचे जला दिया। जैसे ही इस घटना ने देशव्यापी आक्रोश फैलाया, तेलंगाना पुलिस पर फास्ट-ट्रैक कोर्ट ट्रायल के आधार पर बिना देरी किए सजा देने का दबाव आ गया।

अधिक महत्वपूर्ण जानकारियों / खबरों के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

सभी आरोपी 6 दिसंबर 2019 को बेंगलुरु-हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक पुल के नीचे पुलिस हिरासत में मारे गए थे। पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने कथित तौर पर बंदूकें छीन लीं और अधिकारियों पर हमला कर दिया। साइबराबाद पुलिस ने कहा कि आगामी मुठभेड़ में, सभी चार आरोपी मारे गए। हालांकि ‘दिशा मुठभेड़’ को कई लोगों ने न्यायेतर निष्पादन के उदाहरण के रूप में देखा, लेकिन देश भर में हजारों लोगों ने आरोपी की मौत के रूप में ‘त्वरित न्याय’ का जश्न मनाया।

‘लोकल न्यूज’ प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘नागरिक पत्रकारिता’ का हिस्सा बनने के लिये यहाँ >>क्लिक<< करें

पुलिस हिरासत में चारों आरोपियों की बाद की हत्या को ‘दिशा मुठभेड़’ के रूप में संदर्भित किया गया था। पुलिस ने बलात्कार और हत्या पीड़िता को उसकी पहचान बचाने के लिए दिशा नाम दिया था। वह एक सरकारी अस्पताल में एक पशु चिकित्सा सहायक सर्जन थी और एक रात चार लोगों ने उस पर हमला किया था।

साइबराबाद पुलिस द्वारा आरोपियों की न्यायेतर हत्याओं के आरोपों की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा जस्टिस सिरपुरकर आयोग का गठन किया गया था।

ताजा खबर - (Latest News)

Related news

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here